कोरोना संकट के समय मध्यप्रदेश पुलिस की प्रशिक्षण शाखा ने किए अभिनव नवाचार

पुलिस मुख्या-लय, मध्य प्रदेश
जनसंपर्क कक्ष
समाचार
कोरोना संकट के समय मध्यप्रदेश पुलिस की प्रशिक्षण शाखा ने किए अभिनव नवाचा


पुलिस बल को तनाव मुक्त करने के साथ दिया जा रहा है वर्चुअल प्रशिक्षण


लॉक डाउन से प्रभावित लोगों की मदद के लिए खोले प्रशिक्षण शालाओं के द्वार


भोपाल, 15 मई 2020/ मध्य्प्रदेश पुलिस की प्रशिक्षण शाखा ने कोरोना संकट के समय अभिनव नवाचार किए हैं। प्रशिक्षण शाखा ने  पुलिस बल को तनाव मुक्त रखने एवं कौशल उन्नयन के लिए यूट्यूब चैनल शुरू किया है । साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से बचाव के उद्देश्य से लागू लॉक डाउन से प्रभावित लोगों की मदद के लिए अपनी प्रशिक्षण शालाओं के द्वार खोल दिये हैं। कुछ प्रशिक्षण शालाओं में क्वारेन्टीन सेंटर बनाए गए हैं तो कुछ प्रशिक्षण शालाओं में चल रहीं बिशेष रसोई हर दिन हज़ारों असहायों एवं जरूरतमंदों को पौष्टिक भोजन करा रहीं हैं।
   अपनी एवं अपने प्रियजनों को चिंता छोड़कर कोरोना के खिलाफ जंग में विपरीत परिस्थितियों में लंबी ड्यूटी कर रहे पुलिस जवानों को तनाव मुक्त  रखने के लिए  पुलिस की प्रशिक्षण शाखा द्वारा शुरू किए गए यूट्यूब चैनल पर प्रेरणादायक एवं मनोरंजक सामग्री उपलब्ध् कराई गई है।चैनल पर  पु‍लिस कर्मियों के मनोरंजन के लिए पुलिसनामा के नाम से रोचक किस्सों  की श्रंखला ''किस्सापगोई'' अपलोड की गई है। साथ ही कौशल उन्नयन के लिए इंग्लिश लर्निंग,  इमोशनल इंटेलिजेंस ,सायबर पुलिसिंग, सॉफ्ट स्किल्स, मोबाइल, लेपटॉप व  एंड्रॉयड तकनीक,  सेवा नियम व लेखा के बारे में वर्चुअल प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।


उज्जैन व उमरिया  की पुलिस प्रशिक्षण शाला को बनाया क्वाररेंटाइन सेंटर


उज्जैनन में मक्सीर रोड़, पाटपाला स्थित पुलिस प्रशिक्षण शाला को क्वाहरेंटाइन सेंटर बनाया गया है। पीटीएस उज्जैमन को क्वाशरेंटाइन सेंटर बनाए जाने के लिए हॉस्ट ल के साथ-साथ संपूर्ण परिसर की साफ-सफाई कराई गई है। साथ ही हॉस्ट ल एवं शासकीय भवनों के प्रत्येॉक कक्ष, टॉयलेट, बाथरूम आदि समस्तस स्थाैनों को नगर निगम उज्जैशन के माध्य्म से सेनेटाईज कराया गया है। पीटीएस परिसर के मुख्यक प्रवेश द्वार एवं क्वागर्टर गार्ड पर हेण्डरवाश, सेनेटाईजर व टिश्यूण पेपर रखवाए गए हैं। उज्जैन की प्रशिक्षण शाला में सैकड़ों कोरोना संदिग्धों को क्वारेन्टीन किया जा चुका है। पॉजिटिव्ह पाए गए कोरोना पीड़ितों को इलाज के लिए चिन्हित अस्पतालों में भेज गया है। इसी तरह उमरिया की पुलिस प्रशिक्षण शाला क्वारेन्टीन सेंटर के रूप में काम कर रही है।


इंदौर की पुलिस प्रशिक्षण शाला  की कम्युनिटी किचिन द्वारा 4 लाख भोजन पैकिट वितरित


वैश्विक महा‍मारी कोरोना की वजह से देश पर आए संकट की घड़ी में लोगों को पुलिस का नया रूप देखने को मिल रहा है। लॉकडाउन से प्रभावित असहायों व जरूरतमंदों को भोजन और कोरोना संदिग्धों  को खोज खोजकर अस्प ताल पहुँचाती पुलिस देखकर लोग खुशनुमा आश्चसर्य से भर जाते हैं। भावुक होकर लोग यह कहते सुने जा सकते हैं पुलिस सभी तरह से हमारी रक्षक है।
      इंदौर स्थित मध्य प्रदेश पुलिस के पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज की दोनों मैस द्वारा प्रतिदिन लगभग  दस हजार लोगों के लिए नि:शुल्कप भोजन तैयार किया जा रहा है। इन मैस से अब तक करीबन 4 लाख भोजन पैकिट वितरित किये जा चुके हैं।  यह भोजन उन लोगों को वितरित किया गया है, जो रोज कमाते-खाते थे और लॉकडाउन की वजह से असहाय हो गए हैं अथवा फिर हॉस्टल व अन्य जगहों पर फस गए हैं। जिस परिसर में कभी अनुशासित कदम ताल के साथ ड्रिल सहित तमाम कठिन शारीरिक प्रशिक्षण की गूंज रहती थी। उसमें अब रह-रहकर यह आवाज सुनाई दे रही है, जल्दीक करिये लोग भूखे है और हमारा इंतजार कर रहे हैं। भोजन तैयार करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा रियायती दर पर राशन और स्वै च्छिक दानदाता अपनी श्रद्धा के अनुसार धनराशि मुहैया करा रहे हैं। पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज के कर्मचारी दिन-रात मेहनत कर पूरी साफ-सफाई एवं गुणवत्ता  के साथ जरूरतमंदों के लिए रसोई तैयार कर रहे हैं। इतना ही नहीं प्रशिक्षण शाला के लगभग एक सैकड़ा जवान कोरोना के खिलाफ मैदानी ड्यूटी भी कर रहे हैं ।


परिवीक्षाधीन उप पुलिस अधीक्षकों को ऑनलाइन प्रशिक्षण


मध्यप्रदेश पुलिस के 42 वे बैच के परिवीक्षाधीन उप पुलिस अधीक्षकों को ऑनलाइन आंतरिक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पुलिस मुख्यालय की प्रशिक्षण शाखा के दिशा-निर्देशों के पालन में यहाँ भौंरी स्थित मध्य प्रदेश पुलिस अकादमी के माध्यम से यह प्रशिक्षण चल रहा है।
      ज्ञात हो 42 बैच के कुल 25 उप पुलिस अधीक्षकों  ने गत एक जनवरी को अकादमी में आमद दी थी। मगर कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखकर 3 माह से थोड़े कम प्रशिक्षण के बाद इस बैच के उप पुलिस अधीक्षकों को संबंधित जिलों के लिए रवाना कर दिया गया। अब इन प्रशिक्षु अधिकारियों को जिलों में कार्य करने के  दौरान ऑनलाइन भारतीय दंड विधान, दंड प्रक्रिया संहिता , साक्ष्य विधि, पुलिस अनुसंधान व प्रक्रिया एवं सायबर आदि प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।
क्रमांक-107/2020              धीरज/हितेन्द्र सिंह भदौरिया


Popular posts