यह भोपाल है - यहां लड़कर जीता जाता है। 9 दिन की प्राकृति  ने कोरोना पर जीत हासिल की आज फिर चिरायु अस्पताल से 34 व्यक्ति हुए डिस्चार्ज

यह भोपाल है - यहां लड़कर जीता जाता है।
9 दिन की प्राकृति  ने कोरोना पर जीत हासिल की


आज फिर चिरायु अस्पताल से 34 व्यक्ति हुए डिस्चार्


सुखद खबरों का सिलसिला जारी                  
 
आज का दिन भोपाल के इतिहास में लिखा जाएगा, 9 दिन की बेटी कोरोना पॉजिटिव आई थी जिसको उसकी मम्मी  श्रीमती रचना साहू के साथ चिरायु में रखा गया था। कलेक्टर श्री पिथोडे ने चिरायु के प्रबंधन को बच्ची के इलाज के लिए विशेष रूप से कहा था। आज वो सुखद दिन रहा जब  9 दिन बिटिया  प्रकृति आज 20 दिन बाद पूरी तरह स्वस्थ होकर घर पहुच रही है।*


जिला प्रशासन के बेहतर प्रबंध और प्रशिक्षित डॉक्टरों के उत्कृष्ट ईलाज से आज फिर 34 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर अपने घर की ओर रवाना हुए। इन 34 व्यक्तियों में 31 भोपाल से हैं और 3 इटारसी के हैं। इन सभी कोरोना युद्ध विजेताओं ने शासन-प्रशासन और चिरायु अस्पताल को अपने इलाज के लिए धन्यवाद दिया और आभार व्यक्त किया।


   चिरायु अस्पताल के डायरेक्टर डॉ अजय गोयनका के अनुसार चिरायु अस्पताल में कुल 523 व्यक्ति कोरोना के ईलाज हेतु लाए गए थे जिनमें से 243 व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। इन सभी विजेताओं को  कोरोना युद्ध में विजय की बधाइयां दी। सभी को 14 दिवस के होम करंट टाइम की समझाइश दी गई ताकि यह पूर्ण रूप से निश्चिंत हो सके। होम क्वॉरेंटाइन के बाद इन सभी से अपना प्लाज्मा डोनेट करने की अपील की गई । डोनेट डोनेट किए गए प्लास्मा से अन्य कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों का प्लाज्मा थेरेपी चिकित्सा पद्धति से इलाज किया जाएगा।


        आज डिस्चार्ज हुए 34 व्यक्तियों में पुनिया बाई, निखिल सिरमोरिया, सिमरन वर्मा, इमराम शेख, रुकैया बानो, भारती पाल, हुस्ना, पराग माल्या, सृष्टि तिरके, काला बाई, रोहित शर्मा, धर्मेंद्र धाकड़, राहस बिहारी शर्मा, अंकित भार्गव, हीरेंद्र सिंह ,सुभाष जोशी, पल्लवी सोम कुंवर, प्रमोद शर्मा, जवाहर सिंह, परवीन बानो,  रचना साहू और उनकी 9 दिन की बेटी,दिव्या सिंह ,नीता महाले, जिम्मी दीवान, शोएब खान, नसीम खान, मोहम्मद सदीक, मोहम्मद अयान मलिक, आफताब उल हक मलिक, प्रेम कुमार यादव ,लव कुश बघेल, पूजा बघेल और गरिमा अरोरा शामिल है।


आज डिस्चार्ज हुए श्री थाना गौतम नगर में पदस्थ श्री राहस बिहारी शर्मा ने बताया कि उन्हें बिल्कुल उम्मीद नहीं थी कि वह ठीक हो जाएंगे। चिरायु अस्पताल के डॉक्टरों और स्टाफ ने उन्हें इस तनाव से निकलने में मदद करी। डॉक्टर्स के उत्कृष्ट इलाज के कारण ही अब वह पूर्णतः स्वस्थ होकर अपने परिवार के पास जा रहे है।


श्री आफताब ने चिरायु अस्पताल और जिला प्रबंधन को धन्यवाद दिया उन्होंने बताया डॉक्टरों और स्टाफ ने उन्हें बिल्कुल भी नर्वस नहीं होने दिया पूरा ध्यान रखा और देखभाल करी। 


            श्री प्रमोद शर्मा ने चिरायु अस्पताल के बेहतर प्रबंधन और त्वरित इलाज सेवा के लिए धन्यवाद दिया ।उन्होंने बताया कि उन्हें समय पर दवाइयां दी गई और हर छोटी से छोटी बात का ख्याल रखा गया। 
         
         कोरोना वायरस की विषम परिस्थितियों में भी चिकित्सक और सहायक स्टाफ कोरोना वारियर्स जिस तरह से अपने इन मरीजों का सफल इलाज कर रहे हैं उस से कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों के लिए चिरायु अस्पताल एक आशा की किरण के रूप में उभरा है। प्रतिदिन निरंतर सुखद समाचारो से प्रत्येक व्यक्ति के चेहरे से तनाव दूर होकर संतोष के भाव आ रहे है। इस आपदा के दौर में अब वह दिन दूर नहीं जब भोपाल शहर अपने आप को कोरोना मुक्त राजधानी के रूप में स्थापित करेगा।


Jansampark Madhya Pradesh


Popular posts